व्यापारिक विदेशी मुद्रा

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है
जिस क्षण चीन का मुद्दा स्पष्ट हो गया कि वैश्विक जोखिम केवल 20 बिलियन डॉलर स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है का था, निफ्टी 17570 पर वापस आ गया। एक बार फेड के सुर्खियों से बाहर होने के बाद निफ्टी ने 17840 (सेंसेक्स 59962) पर एक नया उच्च स्तर बनाया। हमने बताया था कि 1.95 लाख अनुबंधों के साथ Short open बड़ी गिरावट संभव नहीं थी, लेकिन यह 460 अंकों की तेज रिकवरी के साथ लौटी और हम फिर तेजी में आ गए। गुरुवार की एक्सपायरी बॉक्स से बाहर थी।

स्टॉक ब्रोकिंग के बारे मे कितना जानते हैं आप? शेयर मार्केट की जानकारी रहती है इनके पास

do you know about stock broker career

आज के युग मे मार्केटिंग, बैंकिग, स्टॉक ब्रोकिंग, अकाउंटेंसी के क्षेत्र में दिन-प्रतिदिन प्रगति हो रही है साथ ही इन क्षेत्रों में करियर के अवसर भी लगातार बढ़ रहे हैं। कॉमर्स स्ट्रीम के छात्रों के लिए स्टॉक ब्रोकर एक आकर्षक करियर माना जाता है। अगर आप यह समझते हैं कि सेंसेक्स और निफ्टी कैसे काम करता है और आपको इन सब क्षेत्रों में रुचि है तो स्टॉक ब्रोकिंग क्षेत्र का चयन करना आपके करियर के लिए यकीनन सही होगा।

दरअसल, स्टॉक्स और अन्य सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने की प्रोसेस को 'स्टॉक ब्रोकिंग' कहा जाता है। हमारे देश में स्टॉक मार्केट की फील्ड में स्टूडेंट्स के लिए बहुत अच्छे करियर ऑप्शन्स उपलब्ध हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2018-19 में इंडियन ब्रोकिंग इंडस्ट्री की ग्रोथ रेट (पिछले वर्ष की मॉडरेट ग्रोथ रेट) 5-10 फीसदी से ज्यादा है और एस्टीमेटेड रेवेन्यु 19-20 हजार करोड़ के आस-पास रहेगा। इसलिए, भारत में स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड में कैंडिडेट्स का भविष्य आशाजनक है और कुछ वर्षों के वर्क एक्सपीरियंस के बाद इन प्रोफेशनल्स को काफी अच्छा सालाना सैलरी पैकेज भी मिलता है।

स्टॉक ब्रोकर किसे कहते हैं?

स्टॉक ब्रोकर वो होता है जो शेयर मार्केट में अपने क्लाइंट के लेन-देन के मामलों को देखता है। एक स्टॉक ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज और निवेशक के बीच एक कड़ी का काम करता है। बिना ब्रोकर के कोई भी निवेशक अपना सौदा शेयर मार्केट में नहीं डाल सकता है। अगर आप शेयर मार्केट में कदम रखना चाहते हैं तो आपको एक डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है, और आपके यह दोनों अकाउंट एक स्टॉक ब्रोकर संभालता है।

वह अपने क्लाइंट को शेयर मार्केट में हो रहें उतार-चढ़ाव की भी जानकारी देता है। वह शेयर स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है मार्केट में कब, कैसे, क्यों पैसे निवेश करना चाहिए यह भी बताता है। अगर किसी को शेयर मार्केट में निवेश करना हो तो स्टॉक ब्रोकर ही सही राय दे सकता है जिससे कि निवेश करने वाले व्यक्ति को फायदा हो।

कोर्सेसस्टॉक ब्रोकर के रूप में अपना करियर बनाने के लिए उम्मीदवार बैंकिंग एंड फाइनेंस में डिप्लोमा कर सकते है। यह एक वर्ष का कोर्स होता है। इसमें स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है बैंकिंग आपरेशंस, फाइने फाइनेस जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं।

योग्यता

ग्रेजुएशन कर चुके छात्र और ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष के स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है छात्र पीजी डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनेस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं और स्टॉक ब्रोकर बनने की दिशा में अपना पहला कदम रख सकते हैं। इस कोर्स के लिए छात्र को स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है कॉमर्स स्ट्रीम से 50 प्रतिशत अंक के साथ उर्तीण होना चाहिए। इस फील्ड में करियर बनाने वाले छात्रों को बिजनेस अकाउंटिंग और फाइनेंस जैसे क्षेत्रा में रूचि होनी चाहिए।

गांधी ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है
www.ignou.ac.in

टीकेडब्ल्यूएस इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकिंग एंड फाइनेंस, नई दिल्ली,
www.tkwsibf.edu.in -

आज के युग मे मार्केटिंग, बैंकिग, स्टॉक ब्रोकिंग, अकाउंटेंसी के क्षेत्र में दिन-प्रतिदिन प्रगति हो रही है साथ ही इन क्षेत्रों में करियर के अवसर भी लगातार बढ़ रहे हैं। कॉमर्स स्ट्रीम के छात्रों के लिए स्टॉक ब्रोकर एक आकर्षक करियर माना जाता है। अगर आप यह समझते हैं कि सेंसेक्स स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है और निफ्टी कैसे काम करता है और आपको इन सब क्षेत्रों में रुचि है तो स्टॉक ब्रोकिंग क्षेत्र का चयन करना आपके करियर के लिए यकीनन सही होगा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और यूनिसेफ ने उद्योगपतियों और कॉरपोरेट्स से बच्चों और युवाओं में निवेश करने का आग्रह किया

Children take over the National Stock Exchange to raise their voice in solidarity for protecting and promoting children's rights.

मुंबई, भारत, 05 स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है अक्टूबर 2018: यूनिसेफ की एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर हेनरीएटा फोर ने आज यहां नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई) में 'क्लोजिंग बेल' बजाकर आने वाले समय में बच्चों और युवाओं में निवेश करने की आवश्यकता पर बल दिया।

इस समारोह में श्री विक्रम लिमये, प्रबंध निदेशक, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज; डॉ यास्मीन अली हक, राष्ट्र प्रतिनिधि, यूनिसेफ इंडिया; और श्री रितेश अग्रवाल, ओयो रूम्स के संस्थापक और सीईओ, भी मौजूद थे।

शेयर बाजार का बनना है खिलाड़ी! सबसे पहले खुलवाएं डीमैट अकाउंट, जान लीजिए पूरी प्रक्रिया

शेयर बाजार का बनना है खिलाड़ी! सबसे पहले खुलवाएं डीमैट अकाउंट, जान लीजिए पूरी प्रक्रिया

What is Demat Account: पिछले कुछ सालों में निवेश के तौर तरीकों को लेकर बड़े पैमाने पर बदलाव देखने को मिला है. आम निवेशक भी अब बैंक, डाक घर आदि के निवेश विकल्पों के साथ-साथ शेयर बाजार का भी रुख कर रहे हैं. नई तकनीक के साथ चीजें अधिक डाइनामिक हो गई हैं. आज के समय में ई-कॉमर्स धीरे-धीरे पसंदीदा विकल्प बन रहा है और स्टॉक मार्केट के लिए भी ऐसा ही है. आप हर दिन जो काम करते हैं, उन्हें देखते हुए इक्विटी या डेट जैसे फाइनेंसेस को मैनेज करना आसान नहीं है. बाजार में निवेश को आसान और सुविधाजनक बनाने की दिशा में एक बड़ा बदलाव डिपॉजिटरी एक्ट 1996 के जरिए हुआ. इसमें सभी के लिए अपनी फाइनेंशियल सिक्योरिटीज का मैनेजमेंट केवल कुछ क्लिक जितना आसान बना दिया है. शेयरों या अन्य सिक्योरिटीज की फिजिकल कॉपी प्राप्त करने के बजाय उसे डिजिटल फॉर्म में एक डीमैट अकाउंट में रखने की सुविधा मिल गई. डीमैट अकाउंट आपको ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का लाभ उठाने में मदद करता है जहां आप एक स्टैंडर्डाइज्ड इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम पर अपने फाइनेंशियल सिक्योरिटी रखते हैं.

डीमैट अकाउंट क्या है?

डीमैट अकाउंट एक बैंक खाते की तरह होता है. अंतर सिर्फ इतना है कि यह इलेक्ट्रॉनिक रूप में नकदी के बजाय स्टॉक से जुड़ा है. डीमैट खाता अपने ऑपरेटिव फंक्शन के लिए डीमैटरियलाइजेशन के कंसेप्ट का इस्तेमाल करता है. डीमैटरियलाइजेशन वह प्रक्रिया है जिसमें फिजिकल शेयर सर्टिफिकेट इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित हो जाते हैं. इस तरह, डीमैट अकाउंट एक छत की तरह है जिसके नीचे निवेशक के सभी शेयरों को कलेक्ट करने के लिए तकनीक का उपयोग करता है. इनमें सरकारी सिक्योरिटी, म्यूचुअल फंड्स, शेयर, बॉन्ड आदि शामिल हैं.

Stock Market Return: 1 महीने में 30% मिल सकता है रिटर्न, इन 4 शेयरों ने तोड़ी बड़ी रुकावट, अब दौड़ लगाने को तैयार

डीमैट अकाउंट को ऑनलाइन कैसे खोल सकते हैं?

  • सबसे पहले, अपने पसंदीदा डिपॉजिटरी पार्टिसिपंट (ब्रोकर) की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं.
  • सरल लीड फॉर्म भरें, जिसमें पूछे गए अनुसार अपना नाम, फोन नंबर और निवास स्थान की जानकारी दें. फिर आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा.
  • अगले फॉर्म को पाने के लिए ओटीपी दर्ज करें. अपने केवाईसी डिटेल्स जैसे जन्म तिथि, पैन कार्ड स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है डिटेल्स, कॉन्टेक्ट डिटेल्स, बैंक अकाउंट डिटेल्स आदि भरें.
  • अब आपका डीमैट अकाउंट खुल गया है. आपको अपने ईमेल और मोबाइल पर डीमैट अकाउंट नंबर जैसे डिटेल्स प्राप्त होंगे.

एक निवेशक के कई डीमैट खाते हो सकते हैं. यह एक ही डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स (डीपी), या अलग-अलग डीपी के साथ हो सकते हैं. जब तक निवेशक सभी एप्लिकेशंस के लिए आवश्यक केवाईसी डिटेल्स प्रदान कर सकता है, तब तक वह आवेदक कई डीमैट अकाउंट ऑपरेट कर सकता है.

पेटीएम के जरिए करें शेयर बाजार में कारोबार, सेबी ने स्टॉक ब्रोकिंग करने की दी मंजूरी

Stock Broking

नई दिल्ली। पेटीएम मनी ने गत सोमवार को अपने एक ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से जानकारी दिया कि अब पेटीएम को भारतीय विनियामक एवं प्रतिभूति बोर्ड ( SEBI ) से स्टॉक ब्रोकिंग की मंजूरी मिल गई है। कंपनी ने यह भी कहा कि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( BSE ) व नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( NSE ) पर स्टॅाक ब्रोकर मेंबरशिप भी मिल गई है। बता दें कि इसी साल जनवरी माह में ही पेटीएम मनी ने कहा था कि उसके प्लेटफॉर्म पर 10 लाख यूजर्स हैं। कंपनी ने इस प्लेटफॉर्म को पिछले साल सितंबर माह में लॉन्च किया था।

लॉन्च किए जाने के बारे में नहीं दी कोई जानकारी

सेबी से मंजूरी के बाद कंपनी अब स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है स्टॉक एक्सचेंज के साथ मिलकर शुरुआती प्रक्रिया पूरी करने में जुटी हुई है। इसके बाद पेटीएम अब अपने प्लेटफॉर्म पर इक्विटी ट्रेडिंग, डेरिवेटिव व इक्विटी ट्रेडिंग फंड्स ( ETF ) जैसे अन्य फंड्स में ट्रेड करने की सुविधा मुहैया कराएगा। हालांकि, पेटीएम ने इस सुविधा के लॉन्च किए जाने के बारे कोई जानकारी नहीं दी है। सेबी के नियमों के तहत मौजूदा समय में इसके लिए सबसे पहले डीमैट अकाउंट बनावाना होता है, जिसके माध्यम से स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग की जाती है।

इन स्‍टॉक में है Multi Bagger बनने का दम, खरीदने से पहले जान लें एक्‍सपर्ट की राय

Andhra Cement (टेक ओवर केस) 24 रुपये से गिरकर 17 रुपये पर आ गया। (Pti)

क्या हमें बाजारों को समझने के लिए असाधारण दिमाग की जरूरत है. हमारा जवाब है नहीं। आपको बस यह जानने की जरूरत है कि आप अभी भी बुल मार्केट में हैं। करेक्‍शन सही है और अगर आप उन्‍हें अच्‍छा नहीं मानते तो आप मिस कर देंगे खासकर यदि ट्रेडर हैं।

नई दिल्‍ली, Kishore P Ostwal। क्या हमें बाजारों को समझने के लिए असाधारण दिमाग की जरूरत है. हमारा जवाब है नहीं। आपको बस यह जानने की जरूरत है कि आप अभी भी बुल मार्केट में हैं। करेक्‍शन सही है और अगर आप उन्‍हें अच्‍छा नहीं मानते तो आप मिस कर देंगे खासकर यदि आप ट्रेडर हैं। अगर कुछ हताश Sellers के लिए कीमत गिर रही है, तो आपको उन्हें सस्ते में खरीदने का मौका देने के लिए वास्तव में धन्यवाद देना चाहिए। जैसे Andhra Cement(टेक ओवर केस) 24 रुपये से गिरकर 17 रुपये पर आ गया जबकि शुक्रवार को दोपहर 3.28 बजे 2 करोड़ शेयरों में ब्लॉक डील हुई। अब कीमत देखें और कारण जानें। हमने कहा था स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है कि बाजार 17370 तक गिर सकता है और वास्तव में यह 17340 पर चला गया। ऐसा क्यों हुआ? चार्ट पर 17100 का स्‍तर शानदार समर्थन के रूप में दिख रहा था। चार्टिस्ट को यह समझना चाहिए कि जो लोग बाजार को नियंत्रित करते हैं वे चार्ट भी जानते हैं। यहीं पर मार्केट गुरु कहता है कि मार्केट में टाइमिंग असंभव है। हम चार्टिस्ट नहीं हैं। हमने 17750 का अनुमान लगाया था और वास्तव में यह 17800 पर पहुंच गया था और हमने कहा था कि 17370 को नहीं टूटना चाहिए और इसने 17340 का स्‍तर किया। यह एक बड़ा सप्ताह था।

रेटिंग: 4.25
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 181
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *