बाइनरी ऑप्शन टिप्स

स्विंग ट्रेडिंग के फायदे

स्विंग ट्रेडिंग के फायदे

Swing Trading क्या है ? और कैसे करे स्विंग ट्रेडिंग यहाँ जाने पूरी जानकारी

Swing Trading शेयर बाजार मे मुनाफा कमाने का एक और बढ़िया विकल्प है। लेकिन स्विंग ट्रेडिंग को बुनियादी तौर पर समझे बिना इसका प्रयोग करने से आपको कभी लाभ नहीं मिल सकता। अगर आप शेयर बाजार मे नए है और निवेश की शुरवात कर रहे है तो आपको इसे अपनाने के पहले ठीक से जानना जरुरी है।

स्विंग ट्रेडिंग क्या है ?(What Is Swing Trading)

  • स्विंग ट्रेडिंग को आप इंट्राडे ट्रेडिंग भी नहीं कह सकते और डिलीवरी ट्रेडिंग भी नहीं कहा जा सकता।
  • स्विंग ट्रेडिंग मे ख़रीदे हुए शेयर 1 दिन से ज्यादा और उसके बाद 2 से 3 दिन या फिर 1 सप्ताह कर होल्ड किये जाते है।
  • इंट्राडे मे होल्ड की गयी शेयर पोजीशन उसी दिन सेल की जाती है और डिलीवरी ट्रेडिंग शेयर खरीदने के बाद उन्हें लम्बे समय तक होल्ड किया जाता है।
  • स्विंग ट्रेडिंग के जरिये छोटे समय मे मुनाफा कामबे का उद्देश्य होता है।
  • ऐसे समय शेयर के छोटे से कीमत के बदलाव पर मुनाफा कमाया जाता है।
  • स्वाँग ट्रेडिंग मे लाभ कमाने के लिए रणनीति के आधार पर ट्रेड किया जाता है।
  • इसे आप डिलीवरी ट्रेडिंग का एक उप प्रकार भी कह सकते है।
  • स्विंग ट्रेडिंग करने वाले निवेशक शेयर की कीमतों का अंदाज़ा लगाने के लिए तकनिकी विश्लेषण करते है
  • इसी समय निवेशक उस शेयर के बारे मे बारीकी से अभ्यास करते है जैसे की कंपनी का प्रोडक्ट और छोटे समय मे कंपनी मे होने वाले बदलाव जो शेयर पर असर डालते है।
  • बिना विश्लेषण किये स्विंग ट्रेडिंग करना काफी जोखिम भरा है विश्लेषण के जरिये स्टॉप लॉस लगाकर जोखिम को कम किया जा सकता है।

कैसे करे स्विंग ट्रेडिंग :(How To Start Swing Trading)

  • सबसे पहले ट्रेडिंग या निवेश करने के लिए आपके पास डीमैट और ट्रेडिंग खाता होना चाहिए जिसे आप किसी भी ब्रोकर के जरिये खोल सकते है।
  • स्विंग ट्रेडिंग करना काफी जोखिम भरा साबित हो सकता है स्विंग ट्रेडिंग करने के लिए आपको सबसे पहले सही शेयर को चुनना चाहिए। (जिसेक लिए स्विंग ट्रेडिंग के रणनीतियों को इस्तेमाल कर सकते है )
  • स्विंग ट्रेडिंग करते समय जब शेयर बाजार मे उतार चढाव होता है ऐसे समय ट्रेड करना चाहिए।
  • स्विंग ट्रेडिंग मे कम समय मे कीमत बढ़ने पर लाभ होता है इसलिए ज्यादा लिक्विडिटी वाले शेयर चुनने चाहिए।
  • शेयर को चुनने के बाद उस शेयर का तकनिकी और कंपनी का अंतर्गत विश्लेषण काफी ज्यादा मायने रखता है।
  • स्विंग ट्रेडिंग के लिए सही शेयर चुना है या नहीं ये जानने के लिए आप स्विंग ट्रेडिंग के लोकप्रिय राणिनीतिया अपना सकते है जो की तकनिकी संकेतो के जरिये शेयर के कीमत के बारे मे अंदाज़ा लगाने मे मदत करते है।
  • आप चार्टिंग के जरिये विश्लेषण के लिए इंट्राडे टूल्स का इस्तेमाल कर सकते है इसी समय सामन्य चार्टिंग से भी 1 सप्ताह के संकेतो का विश्लेषण किया जा सकता है।
  • स्विंग ट्रेडिंग शेयर निवेश करने के बाद आपको आपके विश्लेषण के अनुसार स्टॉप लॉस रखना चाहिए इससे रिस्क कम होती है।
  • स्विंग ट्रेडिंग निवेश समय आपके होल्डिंग पोजीशन को हर समय नजर रखनी चाहिए और हर बदलाव का असर समझाना चाहिए।
  • आखिर मे आपके स्विंग ट्रेड रणनीति के अनुसार मुनाफा आने पर होल्डिंग बेचनी चाहिए।
  • स्टॉप लॉस हिट होने के बाद होल्डिंग स्क्वायर ऑफ कर लेनी चाहिए।

कब करनी चाहिए स्विंग ट्रेडिंग :(When Is Best Time To Do Swing Trading)

  • स्विंग ट्रेडिंग निवेश के लिए कोई तय समय नहीं है ये आपके ऊपर निर्भर करता है की आपने शेयर को कितनी अच्छी तरह से जांचा है।
  • जब आप शेयर का तकनिकी विश्लेषण करते है तब आपको शेयर के ट्रेंड का पता लग जाता है।
  • इसका मतलब शेयर करेक्शन करते समय अपना ट्रेडन बदल देता है ऐसे समय स्विंग ट्रेडिंग अच्छा रिजल्ट दे सकती है और लॉस होने की जोखिम भी कम होती है।
  • इस ट्रेंड और करेक्शन को जानना स्विंग ट्रेडिंग मे काफी जरुरी होता है जिसके लिए अलग अलग प्रणाली का इस्तेमाल किया जाता है।
  • निवेशक अलग अलग संकेतो का इस्तेमाल करके स्विंग हाई लौ ,मूविंग एवरेज ,ओवरबॉट ओवरसोल्ड की जानकारी को देखकर निर्णय लेते है।

स्विंग ट्रेडिंग के लाभ :(Benifits Of Swing Trading)

  • स्विंग ट्रेडिंग एक छोटे समय याने 1 हफ्ते से लेकर 1 महीने तक की जाती है इसमे छोटे समय मे आप ट्रेडिंग मुनाफा स्विंग ट्रेडिंग के फायदे कमा सकते है।
  • शेयर के लम्बे समय तक का रिसर्च करने की जरुरत नहीं पड़ती है क्यों की आपको इसमे सिर्फ कुछ दिनों के लिए ही निवेश करना होता है।
  • स्विंग ट्रेडिंग मे जोखिम है लेकिन इंट्राडे के मामले मे यह जोखिम काफी कम है।
  • अच्छी शेयर मे स्विंग ट्रेडिंग करने पर ज्यादा लॉस होने की संभावना कम होती है क्यों की इसे आप रणनीति बदलकर होल्ड भी कर सकते है।
  • स्विंग ट्रेडिंग मे आपको 1 से 2 दिन मे अच्छा मुनाफा भी मिल जाता है जो की इंट्राडे ट्रेडिंग आपको नहीं देती है।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए लोकप्रिय रणनीति :(Best Strategies For Swing Trading)

स्विंग ट्रेडिंग के लिए रणनीति बनाकर कम समय मे अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है.रणनीति मे मुनाफा कमाने की कीमत तय की जाती है इसी समय स्टॉप लॉस पर भी ध्यान दिया जाता है जिससे जोखिम नियंत्रित होती है।

Swing Trading क्या होता है

जब हम शेयर मार्केट में किसी शेयर को बहुत कम समय के लिए निवेश करते हैं तो उसे हम Swing Trading कहते हैं! जब हम Intraday Trading करते है तो हमे Share को उसी दिन बेचना होता है, लेकिन Swing Trading में आप कुछ दिनों तक रख सकते है ! इसमें आप शेयर को Delivery, F &O, Cash में खरीद बेच सकते है !

Swing trading, swing trading hindi, swing trading stock,Swing Trading क्या होता है,
Swing Trading

इसे आप इस तरह से भी कह सकते है कि जब आप लंबे समय के लिए Trading करते है तो उसको Swing Trading कहते है !

Example:-

जैसे माना कि आपने किसी कंपनी XYZ के शेयर आज खरीदे हैं और आप उसे एक दिन से एक सप्ताह या एक-दो महिने के लिए निवेश करते हैं और उसके बाद बेच देते तो इसे हम Swing Trading कहते हैं, स्विंग ट्रेडिंग शेयर खरीदने का मकसद यह होता है कि जब शेयर कि मूल्य बढ़ जाये तब बेचना होता है!

जब हम इन्वेस्टमेंट करते हैं तब हम कंपनी के Value के बारे में पता करते हैं और कंपनी और लंबे समय में कैसा प्रदर्शन करेंगी उसे देख कर इन्वेस्ट करते हैं! तो उसे Investment कहते हैं! स्विंग ट्रेडिंग में बिल्कुल इसके उलट होता है हम शेयर को एक कम समय के लिए एक निश्चित टारगेट के साथ खरीदते या बेचते हैं!

What is Trading in Hindi – ट्रेडिंग क्या होता है? ट्रेडिग कितने प्रकार के होते हैं? और 2022 में ट्रेडिंग कैसे सीखें?

What is Trading in Hindi – ट्रेडिंग क्या होता है? ट्रेडिग कितने प्रकार के होते हैं? और 2022 में ट्रेडिंग कैसे सीखें : दोस्तों क्या आप भी शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करके पैसा कमाना चाहते हैं? ऐसे में हम आपको बता दे कि आज कल हर व्यक्ति शेयर मार्केट में ट्रेडिंग के जरिए कम समय में ज्यादा मुनाफा कमाना चाहता है। यदि आप भी उन लोगों में शामिल है, तो हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगा।

जिसमें हम आपको बताएंगे कि ट्रेडिंग क्या होता हैं? ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते हैं? और वर्तमान समय में ट्रेडिंग करना कैसे सीखा जाए? जानते हैं इन सभी तथ्यों के बारे में इसके लिए हमारे आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

What is Trading in Hindi

What is Trading in Hindi - ट्रेडिंग क्या होता है

सबसे पहले जानते हैं कि

ट्रेडिंग क्या होता है? (What is Trading in Hindi)

यदि हम इसे आसान शब्दों में बताएँ तो ट्रेडिंग का मतलब व्यापार करना होता है। जैसे कि स्विंग ट्रेडिंग के फायदे किसी वस्तु को खरीदकर उसे बेच देना ट्रेडिंग कहलाता है। यदि आप किसी कंपनी के शेयर को खरीदते हैं और 1 साल बाद उसे बेच देते हैं, तो इसे स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग कहते हैं। मान लीजिए आप शेयर मार्केट में 1000 रुपए लगाते हैं और उसे 1200 रुपए में बेच देते हैं, तो इसी प्रक्रिया को ट्रेडिंग कहा जाता है। आज के समय बहुत सारे व्यक्ति स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करके अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। लेकिन हम आपको बता दें इसमें वित्तीय जोखिम की संभावना रहती है। इसलिए जब भी आपको शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करना हो तो अपने जिम्मेदारी पर करें।

ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते हैं?

हम आपको बता दें कि स्टॉक मार्केट में मुख्यतः चार प्रकार के ट्रेडिंग होते हैं-

  1. इंट्राडे ट्रेडिंग (Intraday trading)
  2. स्विंग ट्रेडिंग (Swing trading)
  3. शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग (short term trading)
  4. लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग (Long term trading)

ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते हैं

इंट्राडे ट्रेडिंग (Intraday trading)

शेयर मार्केट में 9: 15 से लेकर 3: 30 के अंदर यदि आप कोई शेयर खरीद कर बेच देते हैं, तो इसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहा जाता है। यदि हम इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान के बारे में बात करें तो इसके फायदे और नुकसान निम्नलिखित किस प्रकार है।

इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे

दोस्तों इंट्राडे ट्रेडिंग उन लोगों के लिए फायदे का सौदा हो सकता है जो एक अच्छे स्टॉक को खरीदते हैं। हम आपको पता है दे कि यदि आपने एक अच्छा स्टॉक खरीदते हो तो पर डे 10000 रुपए आसानी से कमा सकते हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग के नुकसान

यदि हम इंट्राडे ट्रेडिंग के नुकसान के बारे में बात करें तो दोस्तों इसमें स्टॉक खरीदने के बाद आप जितना फायदा कमाने की उम्मीद रखते हैं। इसमें नुकसान होने के चांस भी ठीक उतना ही है। इसलिए आप स्टॉक मार्केट को सही तरीके से एनालिसिस करके अपने पैसे इन्वेस्ट करें।

स्विंग ट्रेडिंग (Swing trading)

इस ट्रेडिंग के जरिए आप शेयर मार्केट से कोई भी स्टॉक खरीद के कुछ दिनों या हफ्तों बाद बेच देते है। स्विंग ट्रेडिंग कहलाता है। स्विंग ट्रेडिंग में एक ट्रेडर का लक्ष्य होता है कि वह छोटे-छोटे प्रॉफिट के साथ लंबे समय में अच्छा इनकम हासिल करें।

स्विंग ट्रेडिंग के फायदे

स्विंग ट्रेडिंग के जरिए आप अपने निवेश पर 5% से लेकर 10% तक मुनाफा कमा सकते हैं। यदि हम इसे कम अवधि के नजरिए से देखे तो आपके लिए मुनाफे का सौदा है। इसके अलावा इसमें दूसरा सबसे बड़ा फायदा यह है कि ट्रेडर को पूरा दिन लैपटॉप या कंप्यूटर के सामने बैठने की आवश्यकता भी नहीं है।

स्विंग ट्रेडिंग के नुकसान

स्विंग ट्रेडिंग का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इसमें लाभ कमाने के लिए ज्यादा टाइम स्टॉक मार्केट के तकनीकी का विश्लेषण करना पड़ता है। यदि आप इन तकनीकी या चार्ट को अच्छी तरह देखकर पैसा इन्वेस्ट नहीं करते हैं, तो भारी नुकसान होने का चांस रहता है।

शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग (short term trading)

दोस्तों यदि कोई भी शेयर मार्केट में पैसे इन्वेस्ट करता है तो उसका लक्ष्य कम समय में लाभ अर्जित करना होता है। यदि हम शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग की बात करें तो इसमे ट्रेडर कम समय के अंदर ज्यादा मुनाफा कमाना चाहता है। इसमें ट्रेडर कम समय से लेकर हफ्ते भर के लिए भी स्थिति के अनुसार ट्रेडिंग करता है। शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग में लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग के अपेक्षा नुकसान का ज्यादा चांस रहता है।

शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग के फायदे

शॉर्ट टर्म के जरिए बहुत सारे निवेशकों ने अच्छी तरह एनालिसिस करके अच्छा मुनाफा कमाया है। शॉट टर्म ट्रेडिंग की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यदि आप शॉर्ट टर्म में स्टॉक पर अच्छी तरह रिसर्च करके निवेश करते हैं तो लाभ कमाने के ज्यादा चांस रहते हैं।

शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग के नुकसान

यदि आपको शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग में ज्यादा अनुभव हो तो तभी निवेश करें। वरना इसमें नुकसान होने के ज्यादा चांस रहते हैं। शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग में निवेश करने से पहले स्टॉक मार्केट एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। क्योंकि शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग में जोखिम ज्यादा रहता है।

लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग (Long term trading)

जैसे कि इसके नाम से ही पता चलता है कि लंबे समय के लिए ट्रेडिंग यदि ऐसे में आप लंबे स्विंग ट्रेडिंग के फायदे समय के लिए कोई स्टाक खरीदते हैं, जैसे कि 1 साल या उससे ज्यादा समय के लिए तो इसे लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग कहते हैं।

लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग के फायदे-

लोंग टर्म ट्रेडिंग में यदि आप 1 साल से ज्यादा समय के लिए ट्रेड करते स्विंग ट्रेडिंग के फायदे हैं तो निवेशक टैक्स फ्री हो जाता है। लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग में निवेशक को लाभ अर्जित करने का ज्यादा चांस रहता है। हम आपको बता दें कि ज्यादातर लोग लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग में ही निवेश करने पर भरोसा रखते हैं।

लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग के नुकसान-

स्टॉक मार्केट में किसी भी प्रकार का ट्रेडिंग हो उसमें रिस्क तो होता ही हैं। लेकिन बाकी स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग के तुलना में लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग में नुकसान होने के चांस थोड़ा कम होता है। यदि ऐसे में आप निवेश करते समय एक अच्छा स्टॉक सिलेक्ट नहीं करते हैं तो लॉन्ग टर्म में भी नुकसान होने का रिस्क बढ़ जाता है।

2022 में ट्रेडिंग करना कैसे सीखे?

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करने के लिए इसके विषय में नॉलेज की आवश्यकता होती है और ऐसे में स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने के लिए आपको लंबे अभ्यास की आवश्यकता होती है। तभी आप मुनाफा कमा सकते हैं। यदि आप स्टॉक मार्केट में कैसे ट्रेडिंग किया जाता है, इसके बारे में सीखना चाहते हैं तो यूट्यूब स्विंग ट्रेडिंग के फायदे पर कई सारे फ्री में कोर्स कराए जाते हैं। जहाँ आप आसानी से ट्रेडिंग करना सीख सकते हैं।

इसके अलावा यदि आपको किताबें पढ़ना ज्यादा पसंद है, तो किताबें पढ़कर भी शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करना सीख सकते हैं। यह किताबे मार्केट में आसानी से 500 रुपए से लेकर 1000 रुपए में मिल जाती है। हम आपको बता दें कि इन किताबों में ट्रेडिंग के बारे में बहुत सारे एक्सपीरियंस सीखने को मिलते हैं। इसलिए किताबों के माध्यम से ट्रेडिंग सीखना एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें:

अंतिम शब्द

दोस्तों हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से शेयर मार्केट से जुड़े ट्रेडिंग के बारे में अच्छी तरह समझाया है। ऐसे में हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल (What is Trading in Hindi – ट्रेडिंग क्या होता है? ट्रेडिग कितने प्रकार के होते हैं? और 2022 में ट्रेडिंग कैसे सीखें?) पसंद आया होगा।

अगर ये पोस्ट (What is Trading in Hindi – ट्रेडिंग क्या होता है? ट्रेडिग कितने प्रकार के होते हैं? और 2022 में ट्रेडिंग कैसे सीखें?) आपको पसंद आयी है तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिये और अपने फसबूक, व्हाट्सएप, ट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन अकाउंट के माध्यम से सोशल मीडिया पर भी शेयर करे और इस ब्लॉग को आगे बढ़ने में मदद करे। ऐसे ही बैंकिंग और फाइनेंस से जुड़ी खबरों के बारे में जानने के लिए हमारे वेबसाइट से जुड़े रहे। बहुत जल्द मिलते हैं एक नए आर्टिकल के साथ नमस्कार गुड बाय।

ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है

ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है

ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते है आपके मन मे भी ये सवाल जरूर आया होगा की आखिर स्टॉक मार्केट में कितने प्रकार की ट्रेडिंग होती है. मै आपको बता दू स्टॉक मार्केट में चार प्रकार की ट्रेडिंग होती है intraday trading. Swing trading. Short term trading. Long term trading. ये चार प्रकार की ट्रेडिंग कैसे की जाती है ये हम आज आपको बतायेंगे तो चलीये जानते है.शेअर मार्केट मे ट्रेडिंग कैसे होती है. और कितने प्रकार की होती है.

Intraday trading – इंट्राडे ट्रेडिंग

जब मार्केट 9 बजकर 15 मिनिट में शुरू होता है. और 3 बजकर 30 मिनिट मे बंद होता है. उस टाइम के अंदर आप जो कोई भी शेअर्स खरीद लेते है. या बेज देते है उसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहा जाता है. यांनी की आपको इसी टाइम के अंदर शेअर्स खरीद लेना है और बेच देना है. अब हम जानते है इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान

इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे

इंट्राडे ट्रेडिंग मे आपको शेअर बाजार के उतार-चढाव के बारे मे पता होना बेहात जरुरी है. इंट्राडे ट्रेडिंग से अगर अच्छे स्टॉक का शेअर्स आप खरीद लेते है तो आप 8000 रुपये per day से भी ज्यादा कमा सकते हो

इंट्राडे ट्रेडिंग के नुकसान

इंट्राडे ट्रेडिंग मे जितना फायदा होता है उतना ही रिक्स और loss होता है,इस ट्रेडिंग मे आपको कोई ये नही बताएगा आखिर इंट्राडे मे ट्रेडिंग कैसे करे अगर आपके पास knowledge नही है और आप नये हो तो मेरी ये राय रहेगी आपके लिए ये ट्रेडिंग नही है. क्युकी नये लोग सबसे पहले यही ट्रेडिंग करना शुरू करते है और बाद में उनको असफलता मिलती है अब हम जानते है स्विंग ट्रेडिंग

Swing trading स्विंग ट्रेडिंग

इस ट्रेडिंग मे कोई भी स्टॉक खरीदकर कुछ दिनो मे या कुछ हप्तो के अंदर बेच सकते हो इसे स्विंग ट्रेडिंग कहा जाता है .इसे ट्रेडिंग किंग भी कहा जाता है. ये ट्रेडिंग इंट्राडे की तरह नही है लेकिन इसमे आप अपना टारगेट प्राईस लगाकर loss और profit को आसानी से झेल सकते हो

स्विंग ट्रेडिंग के फायदे

अगर आप नये हो तो सुरुवात मे आपको यही ट्रेडिंग करनी चाहिए तभी आप अच्छा स्टॉक select कर पाओगे और शेअर मार्केट के उतार और चढाव के बारे मे आसानी से और बारीकीसे जान पाओगे

स्विंग ट्रेडिंग के नुकसान

स्विंग ट्रेडिंग मे अगर आप अच्छे स्टॉक को नही चुन, पाओगे तो आपको लॉस ही होगा क्यूकी इस ट्रेडिंग मे अच्छे स्टॉक को चूनना बेहद जरूरी है ताकी आप ज्यादा दिन तक अच्छे से स्टॉक मे invest कर सके

Short term trading शॉर्ट ट्रम ट्रेडिंग

जब कोई ट्रेडिंग कुछ हप्तो से लेकर कूछ महिनो मे complete होता है.उसे शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग कहा जाता है शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग मे एक active trade investment हे आपको इसमे अपने स्टॉक पर नजर रखनी पडती है तभी आप अपने स्टॉक को minimise कर सकते है

शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग के फायदे

वैसे तो इस ट्रेडिंग मे आप अगर पुरी research के साथ stock स्सिलेक्ट करोगे तो आप अपने लॉस ओर प्रॉफिट को मिनिमाईज कर पावोगे

शॉर्ट ट्रेडिंग के नुकसान

अगर आप किसीके कहने पर या YouTube पर video देखकर किसी स्टॉक को खरीद लेते हो तो आपको पक्का लॉस ही होगा क्युकी आप जिस किसी भी स्टॉक को सिलेक्ट करते हो ऊस कंपनी के fundamentals के बारे मे हि आपको पता नही होता तभी आप लॉस मे जाते हो

Long term trading लॉंग टर्म ट्रेडिंग

अब आप इसके नाम से ही जान गये होंग आखिर लॉंग टर्म ट्रेडिंग क्या है. इस ट्रेडिंग में आप जो कोई स्टॉक एक साल या उससे ज्यादा के लिये खरीद लेते हो उसे लॉंग टर्म ट्रेडिंग कहा जाता है

लॉंग टर्म ट्रेडिंग के नुकसान और फायदे

इसमे अगर आप कोई अच्छा स्टॉक सिलेक्ट नही कर पाओगे तो आपको नुकसान होगा .और रिसर्च करके अगर सिलेक्ट करोगे तो आपको बहुत ज्यादा प्रॉफिट भी हो सकता है

दोस्तो आशा करता हु आपको यह आर्टिकल देहत पसंद आया होगा अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमे नीचे comment मे जरूर बताये और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे

संबंधित लेख

FAQ

ट्रेडिंग कितने प्रकार कि होती है

ट्रेडिंग चार प्रकार की होती है
1, Intraday trading
2, Swing trading
3, Short term trading
4, Long term trading

नमस्ते दोस्तों आपका स्वागत है आपको इस website पर शेयर मार्केट, म्यूचल फंड, शेयर प्राइस टारगेट, इन्वेस्टमेंट,से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी रिसर्च के साथ हिंदी मे दी जाएगी

MT4 के लिए बैरोस स्विंग संकेतक

MT4 के लिए बैरोस स्विंग इंडिकेटर एक संकेतक है जो मेटा ट्रेडर 4 चार्टिंग और ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर आधारित है। मेटा ट्रेडर 4 चार्टिंग प्लेटफॉर्म के लिए बैरोस स्विंग इंडिकेटर उन सभी व्यापारियों के लिए बनाया गया है, जो व्यापारी के चयनित ट्रेडिंग चार्ट के अपने दिन-प्रतिदिन के तकनीकी विश्लेषण के लिए ट्रेडिंग टर्मिनल का सक्रिय रूप से उपयोग करते हैं, ट्रेडिंग दिवस के दौरान ट्रेडिंग निर्णय लेने के लिए। और उन सभी टाइमफ्रेमों के चार्टिंग के लिए जो व्यापारी की पसंद की संपत्ति और बाजारों में मुद्रा जोड़े बनाते हैं।

व्यापारी आसानी से मेटा ट्रेडर 4 चार्टिंग प्लेटफॉर्म के लिए बैरोस स्विंग इंडिकेटर का उपयोग कर सकते हैं, जो व्यापारी की मुद्रा जोड़े या व्यापारिक संपत्तियों को बनाने वाले अलग-अलग टाइमफ्रेम में अलग-अलग कीमत के झूलों की पहचान करता है। यह तब व्यापारी को उच्च समय सीमा पूर्वाग्रह के बराबर रहने में मदद कर सकता है क्योंकि वह ट्रेडिंग दिवस के दौरान ट्रेडिंग दिशा चुनता है।

वह या तो मेटा ट्रेडर 4 चार्टिंग प्लेटफॉर्म के लिए बैरोस स्विंग इंडिकेटर का उपयोग करने में सक्षम होंगे और पहचान करेंगे कि रिट्रेसमेंट के अवसर किस कीमत पर हैं और उनका लाभ उठाएं। कई अन्य फायदे और व्यापारिक अंतर्दृष्टि भी हैं जो एक व्यापारी आसानी से मेटा ट्रेडर 4 चार्टिंग प्लेटफॉर्म के लिए बैरोस स्विंग इंडिकेटर का उपयोग करने से प्राप्त कर सकते हैं और इनमें से कुछ व्यापारिक अंतर्दृष्टि और फायदे उल्लिखित हैं और निम्नानुसार चर्चा की गई है।

Partially Automated Trading Besides Your Day Job
Alerts In Real-Time When Divergences Occur

मेटा ट्रेडर के लिए बैरोस स्विंग इंडिकेटर का उपयोग करने के पहले प्रमुख लाभों में से एक 4 चार्टिंग प्लेटफॉर्म व्यापारी के लिए उल्लेख के योग्य है कि यह उसे या उसकी पहचान करने में मदद कर सकता है कि मुद्रा जोड़े और या के अलग-अलग समय सीमा में अलग-अलग मूल्य स्विंग क्या हैं। व्यापारिक संपत्ति जो व्यापारी दिन के दौरान काम करता है।

इसका मतलब यह है कि व्यापारी जिसके पास मेटा ट्रेडर 4 चार्टिंग प्लेटफॉर्म के लिए बैरोस स्विंग इंडिकेटर है, वह अपने ट्रेडिंग चार्ट से जुड़ा हुआ है, जहां उन बिंदुओं की पहचान करने में सक्षम होगा जहां बाजार समय सीमा पर दिशा बदल गया है जो व्यापारी से अधिक है। वर्तमान में काम कर रहा है। कीमत में ये स्विंग पॉइंट क्या हैं, इसकी पहचान करना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह व्यापारी को कई तरह से मदद कर सकता है।

इन बिंदुओं की पहचान करने में सक्षम होने के कारणों में से एक, जहां बाजारों ने दिशा बदल दी है, व्यापारी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह व्यापारी को मुद्रा जोड़े या व्यापारिक संपत्तियों के उच्च समय-सीमा की दिशा में उसके ट्रेडों को संरेखित करने में मदद कर सकता है। व्यापारी वर्तमान में काम कर रहा है। इसका मतलब यह है कि जब व्यापारी मेटा ट्रेडर 4 चार्टिंग प्लेटफॉर्म के लिए बैरोस स्विंग इंडिकेटर का उपयोग करने में सक्षम होता है और पहचानता है कि स्विंग पॉइंट्स उच्च समय सीमा में हैं, तो वह यह सुनिश्चित कर सकता है कि वह जो भी ट्रेड कर रहा है, वह उसमें संरेखित है। इस उच्च समय सीमा की दिशा।

यह व्यापारी को दिन के दौरान कुछ चीजों को प्राप्त करने में मदद करेगा। चीजों में से एक है कि यह एक व्यापारी को हासिल करने में मदद कर सकता है कि यह व्यापारी को उच्च गति चार्ट के बड़े झूलों की सवारी करने में मदद कर सकता है। इसका मतलब यह है कि व्यापारी आसानी से उच्च समय सीमा की दिशा में एक व्यापार निर्धारित कर सकता है और अपने लाभ लक्ष्य को उच्च समय सीमा की दिशा के साथ-साथ व्यापारिक दिन पर भी निर्धारित कर सकता है।

यह व्यापारी के लिए बहुत फायदेमंद होगा क्योंकि वह अधिक से अधिक लाभ के अवसरों की सवारी कर सकता है, जो कि मूल्य में उच्च समय सीमा के झूलों की सवारी के परिणामस्वरूप खुद को प्रस्तुत करता है, व्यापारी के लिए बेहतर होगा क्योंकि वह या तो तेजी से सक्षम हो जाएगा एक परिणाम के रूप में उसके व्यापार खाते में वृद्धि। यह व्यापारिक दिन के दौरान बहुत कम मात्रा में जोखिम का अनुमान लगाने के लिए बैरा स्विंग स्विंग इंडिकेटर फॉर मेटा ट्रेडर 4 चार्टिंग प्लेटफॉर्म के साथ काम करने वाले व्यापारी की मदद कर सकता है।

यह मुख्य रूप से है क्योंकि ट्रेडर जो भी जोखिम उठा रहा है, वह लाभ के अवसर की तुलना में बहुत कम है, जो कि प्रवृत्ति में ऐसे व्यापारिक अवसरों से आसानी से निकल सकता है। इसलिए, भले ही व्यापारी व्यापारिक दिन के दौरान बड़ी संख्या में ट्रेडों को खो देता है, उसे जल्द ही किसी भी कुछ जीत से मुआवजा दिया जाता है जो वह या वह जल्द ही ट्रेडिंग दिवस के दौरान कीमत पर प्राप्त करता है।

यह तब व्यापारी को अधिक आत्मविश्वास से व्यापार करने में मदद करेगा क्योंकि वह अपने व्यापार के दौरान बहुत कम जोखिम से बहुत बड़े पैमाने पर लाभ प्राप्त करने में सक्षम है। एक और कारण है कि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि यह व्यापारी को विपरीत दिशा स्विंग ट्रेडिंग के फायदे में ट्रेडों से बचने में मदद कर सकता है, जो ट्रेडिंग दिवस के दौरान बड़ी समय सीमा की दिशा में होता है।

यह बहुत महत्वपूर्ण है, हालांकि यह व्यापारिक दिन के दौरान भी काफी हद तक कम आंका जाता है। यह बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि किसी भी गंभीर व्यापारी को पहले से ही पता है कि कीमत उस दिशा में सबसे मजबूत चलती है जिस कीमत को व्यापार दिन के दौरान स्थानांतरित करने के लिए तैयार है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि मूल्य रुझान में चलता है और कोई भी प्रवृत्ति छोटी तरंगों से बनती है जो या तो प्रवृत्ति की दिशा में चलती है या प्रवृत्ति के विपरीत दिशा में चलती है। जब एक लहर प्रवृत्ति की दिशा के खिलाफ चलती है, तो इसे एक रिट्रेसमेंट तरंग के रूप में जाना जाता है और लाभ लेने के साथ-साथ बाजारों में फिर से प्रवेश करने का अवसर प्रदान करता है।

तरंगें फिर उसी दिशा में चलती हैं, जब तक कि प्रवृत्ति को सबसे लंबे और सबसे बड़े स्थानांतरित करने के लिए जाना जाता है। इसलिए, जब कोई व्यापारी प्रवृत्ति की दिशा के खिलाफ व्यापार करने का फैसला करता है, तो यह व्यापारी को बाजार की दया पर छोड़ देता है क्योंकि उसे भारी नुकसान हो सकता है जो कि बाजार में व्यापारी के पदों के खिलाफ बहुत मजबूती से बढ़ने वाली कीमत से उत्पन्न होता है। । दूसरी ओर, एक व्यापारी जिसके रुझान की दिशा में उसके ट्रेडों को तैनात किया गया है, व्यापारिक दिवस के दौरान उसके पक्ष में मजबूत कदम होंगे।

रेटिंग: 4.84
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 625
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *